सेलिब्रिटी

उस दौर में बिकनी बेब बन धमाका करने वाली पहली एक्ट्रेस थी शर्मिला

फिल्मों का वह दौर जब लड़कियों के बॉलीवुड इंडस्ट्री में जाने पर ही रोक लगा देते थे ऐसे में बॉलीवुड के बेहतरीन अदाकारा शर्मिला टैगोर ने अपनी अदाकारी के दम पर करोड़ों दर्शकों के दिलों पर छाप छोड़ी है। अपनी पहली ही फिल्म से वह सुर्खियों में आना शुरू हो गईं। दरअसल शर्मिला टैगोर पहली भारतीय अभिनेत्री हैं जिन्होंने फिल्मों में पहली बार बिकिनी पहनी।

शर्मिला टैगोर 70 के दशक में सबसे ज्यादा फीस पाने वाली अभिनेत्री बनीं और अपने बेहतरीन अभिनय से उन्होंने दो राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार और दो फिल्मफेयर पुरस्कार जीते। शर्मिला के जन्मदिन पर जानिए 10 ऐसे किरदारों के बारे में जो अभी तक लोगों के जहन में जिंदा है।

जरीन खान टीवी पर बिखेरेंगी जलवा, बॉलीवुड से हुई निराश

1959 में फिल्म ‘अपुर संसार’ से शर्मिला टैगोर ने सिनेमाई संसार में कदम रखा। इस फिल्म में अपर्णा का किरदार शर्मिला टैगोर ने निभाया है। अपनी पहली ही फिल्म में एक दिमागी तौर पर बीमार लड़की का किरदार निभाने पर उनकी बहुत तारीफें हुईं। शर्मिला टैगोर के अलावा फिल्म के मुख्य कलाकार सौमित्रा चटर्जी, आलोक चक्रवर्ती और स्वपन मुखर्जी हैं।

साल 1964 में आई शक्ति सामंत निर्देशित फिल्म ‘कश्मीर की कली’ 1961 में आई हॉलीवुड फिल्म ‘कम सेप्टेम्बर’ पर आधारित है। शर्मिला टैगोर ने हिंदी सिनेमा में इसी फिल्म के साथ कदम रखा था। कश्मीरी लड़की चंपा के किरदार में दर्शकों ने शर्मिला टैगोर को काफी पसंद किया गया। उनके अभिनय को भी खूब सराहा गया। इस फिल्म में शर्मिला टैगोर, शम्मी कपूर, प्राण और नज़ीर हुसैन मुख्य भूमिका में हैं।

साल 1966 में आई फिल्म ‘अनुपमा’ एक रोमांटिक ड्रामा फिल्म है। इस फिल्म में उमा का किरदार शर्मिला टैगोर ने निभाया है। इस फिल्म में उनके अभिनय की बहुत सराहना की गईं। शर्मिला टैगोर के साथ धर्मेंद्र और देवन वर्मा फिल्म में मुख्य भूमिका में हैं।

फिल्म ‘एन इवनिंग इन पेरिस’ 1967 में आई एक रोमांटिक थ्रिलर फिल्म है।  इस फिल्म में शर्मिला टैगोर ने अपने दोहरे चरित्र को बखूबी निभाया। शर्मिला टैगोर के साथ शम्मी कपूर और प्राण इस फिल्म में मुख्य भूमिका में हैं।

वर्ष 1969 में आई फिल्म ‘सत्यकाम’ एक ड्रामा फिल्म है। इस फिल्म में बलात्कार पीड़ित लड़की का किरदार शर्मिला टैगोर ने निभाया। एक मजबूर लड़की के रूप में उनके अभिनय को बहुत पसंद किया गया। फिल्म के मुख्य कलाकार धर्मेंद्र, शर्मिला टैगोर, संजीव कुमार और अशोक कुमार हैं।

साल 1969 में आई फिल्म ‘आराधना’ एक रोमांटिक ड्रामा फिल्म है। इस फिल्म में लाजवाब अभिनय के लिए शर्मिला टैगोर को पहला फिल्मफ़ेयर अवार्ड मिला। फिल्म में शर्मिला टैगोर, राजेश खन्ना, सुजीत कुमार और फरीदा जलाल मुख्य भूमिका में हैं।

साल 1972 में आई फिल्म ‘अमर प्रेम’ एक रोमांटिक ड्रामा फिल्म है। इस फिल्म कई संवाद जैसे, ‘आई हेट टीयर्स पुष्पा’, आज भी आम बोलचाल में कहे जाते हैं। पुष्पा के किरदार में शर्मिला टैगोर ने शानदार अभिनय किया है। इसके लिए उन्हें खूब सराहना मिली। फिल्म में राजेश खन्ना, शर्मिला टैगोर, मदन पुरी, विनोद मेहरा आदि मुख्य भूमिका में हैं।

गुलजार के निर्देशन में बनी फिल्म ‘मौसम’ 1975 की एकरोमांटिक ड्रामा फिल्म है। इस फिल्म चंदा के किरदार में शर्मिला टैगोर ने बेहतरीन अभिनय किया। इसके लिए उन्हें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से नवाजा गया। फिल्म के मुख्य कलाकार संजीव कुमार, शर्मिला टैगोर, ओम शिवपुरी और दीना पाठक हैं।

साल 1975 में आई फिल्म ‘चुपके चुपके’ एक रोमांटिक कॉमेडी ड्रामा फिल्म है। सुलेखा के किरदार में शर्मिला टैगोर ने जबरदस्त अभिनय किया है। फिल्म के मुख्य कलाकार धर्मेंद्र, अमिताभ बच्चन, शर्मिला टैगोर, जया बच्चन और ओम प्रकाश हैं।

2003 में आई फिल्म ‘अबार अरण्ये’ एक बंगाली ड्रामा फिल्म है। इस फिल्म में अपर्णा का किरदार शर्मिला टैगोर ने निभाया है। बेहतरीन अभिनय के लिए उन्हें सहायक कलाकार के रूप में राष्ट्रीय फिल्म अवार्ड से नवाजा गया। फिल्म के मुख्य कलाकार शर्मिला टैगोर, सौमित्रा चटर्जी, सुभेन्दु चटर्जी, सास्वत चटर्जी आदि हैं।

सामने आया रंगोली का दर्द, सुनकर रूह कांप जाएगी आपकी

Please follow and like us: