धार्मिक

घर में इस जगह ताला बन कर देगा किस्मत का रास्ता, जाने घर मे कहाँ न लगाएं ताला

वैसे तो हम जब भी घर से बाहर जाते है या फिर किसी चीज़ को हिफाज़त और चोरो से महफूज़ रखना चाहते है। तो हम उस जगह और घर मे ताला लगाते है। रात को सोते वक्त लगभग सभी लोग ताले का इस्तेमाल करते है। इससे न सिर्फ घर बल्कि हम भी घर मे सुरक्षित रहते है। लेकिन घर मे कुछ ऐसी जगह है जहां ताला लगाने से आपकी तरक्की रुक जाती है और आपकी किस्मत के द्वार बन हो जाते है। माँ लक्षमी की कृपा होना बंद हो जाती है। आपको जानकर हैरानी जरूर होगी कि जिस ताले और चाबी का इस्तेमाल हम घर की सुरक्षा के लिए करते है वही ताले और चाबी हमारे किस्मत के बंद ताले को भी खोल सकते हैं।

जी हां वास्तुशास्त्र में बताया गया है कि अगर इन ताले चाबी का प्रयोग सही से नहीं किया गया तो ये आपको बर्बादी की तरफ भी लेकर जा सकते है। जब भी कोई अपने घर से कुछ समय के लिए बाहर जाता है तो इसको ताला लगाकर जाता है। क्योंकि यहां हमारी बहुत सी कीमती चीज़ें होती हैं जैसे, पैसा, जरूरी दस्तावेज़ रखे होते है। इन सब की सुरक्षा सिर्फ एक ताला ही तो करता है। लेकिन वास्तुशास्त्र में इस ताले को लेकर भी कुछ नियम बताए गए हैं, जिनका पालन करने से घर की सुरक्षा पर कभी कोई आंच नहीं आती।

वास्तु शास्त्र के अनुसार पूर्व दिशा को सूर्य का स्थान माना गया है और इस दिशा में ताबें का ताला इस्तेमाल करना चाहिए। इससे चोरी का भय कम रहता है और हमारे घर की सुरक्षा बढ़ जाती है साथ ही आर्थिक रूप से भी आपको लाभ की प्राप्ति होती है।


इसके अलावा ये भी बताया गया है कि पश्चिम दिशा को शनि का स्थान माना जाता है, यहां लोहे का काले रंग का ताला लगाएं इससे आपके घर में सकारत्मक उर्जा का वास होगा और घर की सुरक्षा भी बढ़ जाएगी इतना ही नहीं इसके साथ ही इस दिशा में कभी भूल से भी ताम्बे का ताला ना लगाये वरना ये आपके घर की सुरक्षा पर विपरीत प्रभाव भी डाल सकता है।

उत्तर में पीतल के ताले लगाने से सुरक्षा बढ़ती है लेकिन ध्यान रखें कि इसका रंग हलका सुनहरा होना चाहिए। दुकान या आफ़िस पर पांच धातु के भारी ताले अवश्य लगाएं। ताले के भारी होने से घर की सुरक्षा बढ़ती है। अगर पांच धातु का ताला नहीं मिले तो ताले पर लाल या चेरी रंग चढ़ा कर लगा सकते है।
Please follow and like us: