Javed Akhtar made Kangana Ranaut
सेलिब्रिटी

जावेद अख्तर ने कराई कंगना राणावत के मामले में सुप्रीम कोर्ट में केविएट याचिका दर्ज

बॉलीवुड इंडस्ट्री में कहने को तो सभी दोस्त है। लेकिन कब कौन किस के निशाने पर आ जाए इसका अंदाजा लगाना थोड़ा मुश्किल है। ऐसा ही कुछ किया है। द फेमस गीतकार और लेखक जावेद अख्तर ने कंगना राणावत के मामले में सुप्रीम कोर्ट में केविएट याचिका दर्ज कराई है।

यहां तक कि जावेद ने कंगना की बहन रंगोली चंदेल के खिलाफ याचिका दर्ज कराई है। जावेद ने कंगना और रंगोली के विरुद्ध मुंबई में चल रहे केस को हिमाचल प्रदेश में स्थानांतरित करने की मांग वाली याचिका से संबंधित केविएट दर्ज कराई है। आपको बता दें कि कैविएट कब दायर की जाती है। जब किसी विवाद में वादी द्वारा उच्च न्यायालय या उच्च न्यायालय में यह निश्चित करने के लिए पिटीशन डाली जाती है।

Javed Akhtar

तथा उसका पक्ष सुने बिना उसके खिलाफ कोई विपरीत आदेश पारित नहीं किया जाए। कंगना के इस मामले में जावेद अख्तर ने यह निर्णय लिया है। कि कंगना और उनकी बहन रंगोली चंदेल ने सुप्रीम कोर्ट में 2 मार्च को याचिका दर्ज कराते हुए कहा है। कि यदि उनके विरुद्ध मुंबई में केस चलते है तो उनके जान और संपत्ति को डर है। और शिवसेना को भी निशाने पर लेते हुए कहा कि शिवसेना के नेता उनके प्रति द्वेष की भावना रखते है।

जिसके कारण उन्हें जान का खतरा रहता है। आपको बता दें जावेद साहब ने टीवी इंटरव्यू में उनके खिलाफ मानहानि और निराधार आलोचना करने के लिए अभिनेत्री कंगना और उनकी बहन रंगोली चंदेल पर मुंबई के अंधेरी में मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट के सामने शिकायत दायर कराई थी। जावेद जी ने कंगना के खिलाफ आईपीएस की धाराओं में कार्रवाई की मांग की शिकायत मामलों में कहा गया है , कि कंगना ने जावेद अख्तर के खिलाफ निराधार की टिप्पणी  की जिससे उनकी प्रतिष्ठा को नुकसान हुआ।

कंगना ने भी उनके खिलाफ शीर्ष अदालत में केस दर्ज कर प्शिकायतों की सुनवाई के लिए स्थानांतरण की अपील की इसमें जावेद अख्तर द्वारा दायर की गई शिकायतें भी सम्मिलित है। कंगना की याचिका में साफ तौर से कहा गया है कि उनके जान को खतरे को देखते हुए गृह मंत्रालय ने वाई प्लस कैटेगरी की कड़ी सुरक्षा दे रखी है। इससे यह निश्चित है कि उनके विरुद्ध चल रहे केस को हिमाचल प्रदेश में स्थानांतरित नहीं किया तो उनकी जान को खतरा हो सकता है।

Please follow and like us: