धार्मिक

गणेश जी का यह उपाय कजिये, भाग्य पलट जायेगा

भगवान इंसान की हर इक्षा पूरी करते हैं, चाहे कोई छोटा हो या बड़ा, अमीर हो या गरीब। भगवान की नज़र में सब बराबर है। कोई भी सच्चे मन से भगवान में आस्था रक्खे और पूजा अर्चना में ध्यान लगाए तो भगवान अपने भक्त को कभी भी अनदेखा नहीं करते। हमारे हिन्दू धर्म में करोड़ों देवी देवता हैं।  हर देवी देवता अपने अपने अलग अलग काम और खासियतों से जाने जाते हैं। हिन्दू धर्म सिर्फ एक धर्म मात्र नहीं बल्कि जीवन जीने की पद्धिति है। हमारे आपके जीवन में जो भी होता है वह पहले से ही लिखा हुआ होता है, चाहे वह अच्छा हो या फिर बुरा। जीवन में आगे क्या होने वाला है वह हमारी कुंडली में पहले ही लिखा होता है।

लेकिन ऐसा भी नहीं है के जो कुंडली में लिखा हो वो वही सही हो, अगर ऐसा हो तो हर इंसान अपनी कुंडली देख कर कर्म करना बंद कर दे और अपने सही समय का इंतज़ार करे की वह कब अमीर बनेगा। अगर आपको अपने सपने पूरे करने हैं तो आपको कर्मा करने ही होंगे, बिना कर्म किया तो भगवान के सामने हाथ जोड़ना भी व्यर्थ समान हैं। लेकिन अगर आप कर्म कर रहे हैं तो ईश्वर की आराधना में बराबर लगे हुए हैं तो आपके सपने पूरे होने से कोई नहीं रोक सकता।

गणेश भगवान की हमारे देश में पुजा मात्र ही नहीं होती उनका अपना अलग ही स्वैग है। भगवान गणेश को इच्छा पूरी करने वाला देवता माना जाता है। कहा जाता है अगर गणेश भगवान किसी पर खुश हो गए तो उस इंसान की दुनिया बदल कर रख देते हैं। आज हम आपको भगवान गणेश की पूजा विधि से जुड़ी कुछ बातें बता रहे हैं, जिससे आप भगवान को खुश कर सकते हैं। आपको एक केले का बड़ा पाटा लेकर आना है। सुबह जल्दी उठ कर स्नान करने के बाद भाग गणेश जी के सामने पत्ते को रख कर उस पत्ते पर तीन ढेर बनाने हैं, पहला ढेर थोड़े चावल का, दूसरा ढेर गेहूं का और तीसरा ढेर सिक्कों का।

आप गणेश जी के सामने घी का एक दीपक प्रज्वलि कर दे। अब उनकी आरती करे। इसके बाद इस आरती को केले पर राखी सामग्रियों पर दे। फिर गणेश जी के सामने माथा टेक अपनी धन सम्बंधुत समस्यां या मनोकामना बताए। अब केले के पत्ते पर राखी चावल की ढेरी को अन्य चावल में मिलकर खीर बना दे। वहीँ गेहूं को आटे में मिलाकर उसकी पूरी बना ले। अब ये खीर पूरी सबसे पहले आप गाय को खिलाए। इसके बाद घर के सभी सदस्य भी इसे ग्रहण कर ले। सिक्को की जो ढेरी आप ने बनाई थी उसमे से एक सिक्का घर की तिजोरी में रख दे। इससे बरकत बनी रहेगी। इसके बाद एक सिक्का आप अपने पर्स में भी रख सकते हैं। बा सुसे खर्च नहीं कीजियेगा। बाकी के सिक्के गरीबो में बाट दे।

Please follow and like us: