वायरल

अपनी बात मनवाने के लिए बाबा चढ़ गए वायरलेस टावर पर, फिर खोली पुलिस वालों की पोल

वायरलेस टावर चढ़ खोला पुलिस की घुसखोरी काला चिट्ठा

हमारे शहर में कानून व्यवस्था इतनी खराब है कि या तो लोग पुलिस को देखकर अपनी बात कहने डरते है या फिर अपनी बात रखने के लिए पुलिस के चक्कर काटते रहते है। ऐसे में पुलिस की मनमानी और भ्राष्टाचार को खत्म करने के लिए एक बाबा वायरलेस टॉवर चढ़ अपनी मांगो को पूरा करने की अपील करने लगे। यह मामला सरदारशहर पुलिस थाने का है, बाबा एक पुलिस अधिकारी से परेशान होकर पातलीसर गांव के बाबा वहां के एक वायरलेस टावर पर चढ़कर बैठ गए। यह नाजारा देखकर पुलिस वालो के हाथ पैर फूल गए। देखते ही देखते थाने के पास भीड़ इकट्ठा हो गई। पुलिस वालो ने बाबा को खूब समझाने की कोशिश की लेकिन बाबा ने किसी की नहीं सुनी और पुलिस व्यवस्था की धज्जियां उड़ाते रहें।  बाबा ने एक पुलिस अधिकारी राजेन्द्र पर भष्ट्राचार का आरोप लगाकर उस पर कार्रवाई की मांग करते रहे।  बाबा के नीचे न आने पर डीवाईएसपी गिरधारीलाल शर्मा ने मौके पर पहुंचक बाबाजी को कार्रवाई किए जाने का आश्वासन दिया तो तब जाकर वह टावर से नीचे उतरे।

दरअसल बाबा ने बताया कि उनके आश्रम में जुलाई में करीब 6 लाख रुपयों के सोने चांदी के सामान सहित नकदी की चोरी हो गई थी। थाने में मामला दर्ज करवाने के बाद उन्होंने पुलिस को चोर की जानकारी भी दी। पुलिस ने उस चोर को पकड़ा, लेकिन फिर उससे मिलीभगत कर उसे छोड़ दिया। बाबा ने कहा कि वह पिछले 4 महीने से थाने के चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन उन्हें सिर्फ यही कहा जा रहा है कि जांच जारी है।  इतना ही नहीं बाबा जी ने कहा कि उन्होंने जांच कर रहे पुलिस अधिकारी को 8 हजार रुपये भी दिए हैं।  रविवार को थाने पर पुलिस अधिकारी राजेंद्र ने उनसे अभद्र व्यवहार किया। इसी बात से नाराज होकर वह टावर पर चढ़ गए।

बाबाजी ने कहा कि अगर पुलिस चोर के साथ मिलीभगत कर ले तो आम जनता का क्या होगा।  डीवाईएसपी गिरधारीलाल ने बताया कि बाबाजी के आश्रम में चोरी हुई थी और चोर के नहीं पकड़ने जाने से बाबाजी मामले की जांच कर रहे पुलिस अधिकारी से नाराज हो गए। उन्होंने कहा कि चोर को पकड़ने का आश्वासन दिए जाने के बाद बाबा जी टावर से नीचे उतरने को राजी हुए। उन्होंने कहा कि पुलिस जल्द ही मामले का खुलासा करेगी।

Please follow and like us: