हिंदी समाचार

असम सरकार का बड़ा फैसला, नवंबर से बंद कर दिए जाएंगे सभी सरकारी मदरसे: हिमंत बिस्वा शर्मा

असम के शिक्षा और वित्त मंत्री ने अभी बड़ा फैसला लिया है. कुछ ही देर पहले जारी की गई एक स्टेटमेंट में मंत्री हिमंत बिस्वा शर्मा ने ऐलान किया है कि राज्य में चल रहे सभी सरकारी मदरसों और संस्कृत पढाई वाले टोल को इस नवंबर महीने से बंद किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि अब सरकार धर्म पर आधारित शिक्षा के लिए फिजूल फंड्स नहीं खर्चा करेगी. बता दें कि अभी तक असम में कुल 614 सरकारी मदरसे और 100 संस्कृत स्कूल चलाए जा रहे थे. ऐसे में इन मदरसों के अचानक बंद होने से विद्यार्थियों की शिक्षा पर गहरा असर पड़ सकता है.

हिमंत बिस्वा शर्मा ने कहा कि वह पहले ही अपनी नीति विधानसभा में बता चुके थे ऐसे में अब धार्मिक आधारित शिक्षा पर उनकी सरकार कोई फंड्स नहीं देगी. हालाँकि जो लोग इनपर आधारित प्राइवेट मदरसे और संस्कृत स्कूल चला रहे हैं, उनके बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता. शर्मा ने कहा कि इसके प्रति जल्द ही एक अधिकारिक नोटिफिकेशन भी ज़ारी किया जाएगा.

यह नोटिफिकेशन नवंबर महीने से पहले ही भेज दिया जाएगा. शिक्षा मंत्री हिमंत बिस्वा शर्मा ने कहा कि इन सभी मदरसों को बंद करने के बाद जो 48 शिक्षक काम से हटाए जायेंगे, उन्हें जल्द ही शिक्षा विभाग के अंतर्गत आने वाले स्कूलों में शिफ्ट कर दिया जाएगा. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले भी असम सरकार ने फरवरी महीने में इस नियम को लागू करने की बात कही थी लेकिन बाद में कोरोना कला के चलते इस फैसले को टाल दिया गया था. लेकिन अब नए फैसले के अनुसार धर्मनिरपेक्ष देश में धार्मिक शिक्षा के लिए सरकारी फंड को खर्च नहीं किया जाएगा. बता दें कि नवंबर महीने से असम में सभी तरह के सरकारी मदरसे और संस्कृत स्कूलों पर ताला लगाया जा रहा है और इसकी अधिसूचना जल्दी ही ज़ारी की जाने वाली है.

Please follow and like us: