हेल्थ और फिटनेस

एक अगरबत्ती से हो सकता है कैंसर और ढेरों बीमारियाँ, रिसर्च में हुआ खुलासा

भारत एक ऐसा देश है जहाँ पर लोग भगवन पर बहुत आस्था रखते हैं, लोग यहाँ पूरे श्रद्धा भाव से पूजा अर्चना करते हैं। यहाँ लगभर हर घर में सुबह शाम पूजा होती ही रहती है। आप खुद अपने आस पास कही न कही किसी न किसी घर से घंटी बजने की आवाज़ तो सुन ही लेते होंगे। जब भी हम सब भगवन की पूजा करते हैं तो पूजा करते समय हम धूप बत्ती, अगरबत्ती, पुष्प और कपूर आदि जैसी पूजा सामग्री का इस्तेमाल तो करते ही करते हैं।

अगर आप भी भगवन में आस्था रखते हैं तो इन सभी वस्तुओं का कही न कही आप भी इस्तेमाल करते ही होंगे। लेकिन आपको शायद यह नहीं पता होगा कि इन सभी वस्तुओं में से एक ऐसी चीज़ ऐसी भी है जो आपकी सेहत के लिए बहुत ही हानिकारक है। ऐसा वैज्ञानिकों का भी कहना है की यह आपकी सेहत के लिए ठीक नहीं है। यह जानकारी सुनने के बाद आप भी आश्चर्य में पड़ जायेंगे।


हमने ऊपर जितनी भी पूजा सामग्री के बारे में बात करी है उसमें से अगरबत्ती एक ऐसी चीज़ है जो हम इस्तेमाल करते ही हैं। यह सुगंध में जितनी मनमोहक होती है उतनी ही आपकी सेहत के लिए ज़हर समान भी होती है। ऐसा हम नहीं रिसर्च कहती है। चीन में हुई एक रिसर्च के हिसाब से अगरबत्ती का धुआं किसी किसी सिगरेट से भी ज़ादा खतरनाक होता है। अगरबत्ती के धुएं में छोटे छोटे कण होते हैं जो हवा में मिल कर आपकी सांस द्वारा शरीर में प्रवेश कर जाते हैं और यह कण बेहद ज़हरीले होते हैं। अगरबत्ती के धुएं में म्युटाजेनिक, जीनोटॉक्सिक और साइटोटॉक्सिक नामक तीन तरह के विषैले तत्व पाये जाते हैं, जिनके कारण कैंसर भी हो सकता है।

यह भी कहा गया है, अगरबत्ती का धुआं श्वास के ज़रिये हमारे शरीर में प्रवेश करता है तो हमारे डीएनए पर भी बहुत बुरा प्रभाव डालता है। और तो और जब यह फेफड़ों के संपर्क में आता है तो हमारे शरीर में उत्तेजना, जलन और रिएक्शन करना शुरू कर देता है। ऐसा भी देखा गया है की इसमें 64 परसेंट कम्पाउंड होते हैं जिसकी वजह से यह सांस नाली में खुजली भी करते हैं। और अगर आप आर्टिफिशियल सुगंद वाली अगरबत्ती जलाते हैं तो आप इन सभी खतरों को डबल कर रहे हैं। अगरबत्ती का धुआँ आँखों में जलन पैदा करता है और दिल के मरीजों के लिए और भी हानिकारक है। अगर आप इसका बहुत ज़ादा इस्तेमाल करते हैं तो आज से इसका इस्तेमाल कम कर दें।

Please follow and like us: