वायरल हिंदी समाचार

कमलेश तिवारी की हत्या से बढ़ सकता है आपसी तनाव

कई बिंदुओं पर दौड़ रही है पुलिस की जांच

कुछ अहम मुद्दों का खुलासा दो मौलानाओं के खिलाफ केस दर्ज

मौजूद समय में हिन्दू मुस्लिम आपसी सौहार्द कायम रखने की चिंता लोगों को पहले से ही सता रही थी क्योंकि सुप्रीम कोर्ट अयोध्या में राम जन्मभूमि मामले पर जल्द ही फैसला देने वाला है. ऐसे में लोगों की चिंता हिंदू-मुस्लिम समभाव को कायम रखने की थी. उसी के बीच हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की हत्या की खबर ने आग में घी डालने का काम किया है। बिगड़ सकता है नवाबो की नाजी लखनऊ का माहौल।

सुप्रीम कोर्ट से अयोध्या मामले पर आने वाले फैसले से पहले उत्तर प्रदेश में हुई एक घटना से सनसनी फैल गयी है. राजधानी लखनऊ में हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की दिनदहाड़े हत्या कर दी गयी. लखनऊ के खुर्शीद बाग स्थित हिंदू समाज पार्टी कार्यालय में शुक्रवार को दो युवक कमलेश से मिलने पहुंचे. वे मिठाई के डिब्बे में चाकू और तमंचा लेकर आए थे. बदमाशों ने उनके गले को पहले चाकू से रेता, फिर गोली मारकर फरार हो गए. उन्हें ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. पुलिस टीम सेलफोन की डिटेल खंगालने के साथ ही सर्विलांस की मदद से आरोपियों की तलाश में जुटी हुई है. लेकिन इस घटना की खबर सोशल मीडिया पर फैलने के बाद यूपी ही नहीं, देशभर में महौल तनाव में हो गया.

हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या के मामले में पुलिस ने बिजनौर के दो मौलानाओं के खिलाफ केस दर्ज किया है। दरअसल कमलेश तिवारी की पत्नी किरन ने पुलिस को दी अपनी तहरीर में बिजनौर के मुफ्ती नईम काजमी और मौलाना अनवारुल हक पर उनके पति की हत्या करने की साजिश रचने का आरोप लगाया था। इसके बाद पुलिस ने नईम और अनवारुल के खिलाफ हत्या और साजिश रचने के आरोप में केस दर्ज कर लिया है। बता दें कि कमलेश तिवारी द्वारा पैगंबर मुहम्मद के बारे में विवादित बयान देने के बाद दोनों मौलानाओं ने कमलेश तिवारी का सिर कलम करने के एवज में डेढ़ करोड़ रुपए देने का ऐलान किया था।

पुलिस का यह भी मानना है कि हत्यारे जानबूझकर भगवा कुर्ता पहनकर आए थे, ताकि जांच को गुमराह किया जा सके। इसके अलावा पुलिस कॉन्ट्रैक्ट कीलिंग को लेकर भी जांच कर रही है।

अल हिंद संगठन ने ली जिम्मेदारीः सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हो रहा है, जिसमें कमलेश तिवारी की हत्या की जिम्मेदारी अल हिंद नामक आतंकी संगठन ने ली है। यूपी पुलिस के डीजीपी ओपी सिंह का कहना है कि वह इसकी जांच करा रहे हैं।

Please follow and like us: