खेल

स्‍टेडियम में धोनी-धोनी के नारे लगने से नाराज़ हुए विराट कोहली, बोले बंद करो धोनी धोनी के नारे

युवा विकेटकीपर भारतीय टीम (Indian Team) के खिलाड़ी ऋषभ पंत एम एस धोनी की जगह भारतीय टीम का हिस्सा बने है। ऐसे में उनकी जिम्मेदारी मैच के प्रति और बढ़ जाती है साथ उनपर अच्छा प्रदर्शन करने का दबाव भी बना रहता है। ऐसे में जब भी वो बांग्‍लादेश के खिलाफ सीरीज में  जब भी बल्‍ले या विकेट के पीछे नाकाम होते थे तो दर्शक स्‍टेडियम में धोनी-धोनी के नारे लगाने लगते थे। इससे नाराज कप्‍तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने युवा विकेटकीपर बल्‍लेबाज ऋषभ पंत (Rishabh Pant) का समर्थन करते हुए फैंस से अपील की है कि वे एमएस धोनी (MS Dhoni) के नारे लगाकर पंत पर दबाव न बनाना बंद करे। ‘पंत की नाकामी पर धोनी के नारे लगाना ठीक नहीं’


विराट कोहली ने गुरुवार को कहा, ‘हमें निश्चित तौर पर ऋषभ की क्षमता पर भरोसा है। जैसा कि आपने कहा, यह खिलाड़ी की जिम्मेदारी भी है कि वह अच्छा प्रदर्शन करे लेकिन हमारी जिम्मेदारी है कि हम उस पर दबाव नहीं बनाएं, उसका समर्थन करें। उसे समर्थन मिलना चाहिए।अगर वह कोई मौका गंवाता है या ऐसा कुछ होता है तो लोग स्‍टेडियम में ‘एमएस’ का नाम नहीं ले सकते। यह सम्‍मानजनक नहीं है। कोई खिलाड़ी ऐसा नहीं चाहेगा। यदि आप अपने देश में खेल रहे हैं तो बजाए आपकी गलती का इंतजार करने के आपको उसका समर्थन मिलना चाहिए।’

विराट कोहली ने गुरुवार को कहा, ‘हमें निश्चित तौर पर ऋषभ की क्षमता पर भरोसा है। जैसा कि आपने कहा, यह खिलाड़ी की जिम्मेदारी भी है कि वह अच्छा प्रदर्शन करे लेकिन हमारी जिम्मेदारी है कि हम उस पर दबाव नहीं बनाएं, उसका समर्थन करें। उसे समर्थन मिलना चाहिए। अगर वह कोई मौका गंवाता है या ऐसा कुछ होता है तो लोग स्‍टेडियम में ‘एमएस’ का नाम नहीं ले सकते। यह सम्‍मानजनक नहीं है। कोई खिलाड़ी ऐसा नहीं चाहेगा। यदि आप अपने देश में खेल रहे हैं तो बजाए आपकी गलती का इंतजार करने के आपको उसका समर्थन मिलना चाहिए।’

कप्‍तान कोहली ने आगे कहा, ‘जैसा कि हाल में रोहित (शर्मा) ने कहा, उसको अकेला छोड़ने की जरूरत है, वह मैच विजेता है। एक बार अच्छा प्रदर्शन करने के बाद आप उसे बिलकुल बदले हुए रूप में देखोगे। उसे इतना अलग-थलग नहीं किया जाना चाहिए कि वह अच्छा प्रदर्शन ही नहीं कर पाए। हम यहां उसकी मदद के लिए हैं।’ कोहली ने मानी टी20 में भारत को है समस्‍या
इस दौरान विराट कोहली ने ईमानदारी के साथ टी20 क्रिकेट में भारत की समस्याओं को स्वीकार किया। उन्होंने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि टी20 क्रिकेट में पहले बल्लेबाजी करते हुए और कम स्कोर का बचाव करते हुए हम काफी अच्छे हैं। इसलिए इन दो चीजों पर हमें ध्यान देने की जरूरत है।’
भारत टेस्ट रैंकिंग में शीर्ष पर चल रहा है जबकि एकदिवसीय रैंकिंग में दूसरे स्थान पर है। टी20 क्रिकेट में हालांकि कोहली और उनकी टीम इतनी सफलता हासिल नहीं कर पाई और रैंकिंग में पांचवें स्थान पर है। कोहली ने कहा, ‘टी20 हालांकि ऐसा प्रारूप है जहां आप एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय और टेस्‍ट की तुलना में कहीं अधिक प्रयोग करते हो। मुझे लगता है कि इस नजरिये से आप जो चाहते हैं उसे लेकर कहीं अधिक जोखिम उठाते हैं. एक टीम के रूप में आप युवाओं को काफी मौके देते हैं। इसलिए आप स्पष्ट तौर पर नहीं बता सकते कि हम किसी स्थिति में हैं। रैंकिंग सर्वश्रेष्ठ एकादश की छाया है लेकिन कई मैचों से हमने अपनी सर्वश्रेष्ठ एकादश को एक साथ नहीं खिलाया है।’
Please follow and like us:
Pin Share