अजब गजब

मजदूर की बेटी को हेलीकॉप्टर में विदा कर ले गया दूल्हा, सबकी ऑंखें हो गयी नम

हैलीकॉप्टर में बैठकर विदा हुई लड़की तो रो पड़े लोग
हमारे समाज में आज भी लड़कियों की बोझ समझा जाता है। भले ही लड़किया पढ़कर लिखकर लड़को से कंधे से कंधा मिलाकर क्यों न चले लेकिन सच तो यह है कि लड़की के पैदा होने पर लोग आज भी नाक भौँहे सिकोड़ लेते है। इसकी एक वजह उनकी शादी में आने वाला खर्चा और मोटा दहेज है ऐसे में गरीब मां बाप बेटी के हाथ पीले करने के लिए कर्ज में डूब जाते है। लेकिन हम यहां एक ऐसे मजदूर की बेटी की शादी की बात कर रहे है जिसकी शादी में शगुन के सिर्फ एक रुपयें लेकर मंत्र पढ़े गए और फेरे हुए और उसके बाद दुल्हन अपने राजकुमार के साथ हवाई जहाज में उड़ गई यह कोई सीरियल की कहानी नहीं बल्कि सच्चाई है।

इस शादी में लड़के ने दहेज़ ना लेते हुए सिर्फ शगुन के रूप में एक रूपए लिए हैं।  10 फ़रवरी को हिसार जिले के गोहाना में संजय ने संतोष यादव नाम की एक लड़की से सात फेर लेकर शादी की।  इस शादी को करने के लिए संजय के पिता सतबीर ने एक अनोखी शर्त रखी. उन्होंने कहा कि लड़की वालो से कहा कि शादी में हम लोग दहेज़ कतई नहीं लेंगे और साथ ही शगुन के रूप में सिर्फ 1 रुपया ही लेंगे। सतबीर का कहना हैं कि ऐसा वो इसलिए कर रहे हैं ताकि लोगो को बेटी बचाओ का सन्देश मिल सके। आजकल कई गाँवों में बेटी को बोझ समझा जाता हैं। ऐसे में इस तरह की दहेज़ के बिना शादी कर हम एक सन्देश देना चाहते हैं।

इस शादी में  ख़ास बात ये भी रही कि दूल्हा संजय शादी करने के लिए किसी बग्घी या फिर गाड़ी से नहीं बल्कि हैलिकाफ्टर में बैठ कर आया था और दुल्हन को भी बिदाई के बाद  हैलिकाफ्टर में बैठा ले उड़ा। संतोष संतकबीर की इकलौती संतान है। उसकी इच्छा थी कि वो अपनी शादी में हैलिकाफ्टर में बैठ कर ही जाए। इसलिए उसके पिता ने ये इच्छा पूरी कर दी। संजय फिलहाल बीकाम फाइनल कर रहा हैं जबकि उसकी दुल्हन संतोष संजय से भी ज्यादा पढ़ी लिखी हैं।

Please follow and like us:
Pin Share