हेल्थ और फिटनेस

तेजपत्ता करेगा किडनी स्‍टोन को खत्म जाने कैसे

पुराने जमाने में हमें ज्यादातर बीमारियां नहीं होती थी। लेकिन आजकल बीमारियां संख्या में बढ़ गई है। इसकी वजह है हमारा खाना पान का बदलाव होना। हम देसी खाने से दूर होते जा रहे है जबकी ज्यादातर बीमारी का रामबाण इलाज हमारे किचन में ही छुपा है। तो चलिए आज हम आपको ज्यादातर लोगों को हो रही बीमारी किडनी स्टोन के इलाज के बारे में बताने जा रहे है। इस बीमारी का इलाज भी आपके किचन में ही छुपा है।

तो चलिए आज हम आपको बताते है किचन में मौजूद तेजपत्ते के बारे में। यह तेजपत्ता किडनी स्टोन से लड़ने में कारगर है। वैसे तो इस तेजपत्ते का इस्तेमाल हमारे खाने को लज़ीज बनाने के लिए किया जाता है। वैसे ही पत्त‍ियों का इस्तेमाल औषधी के लिए भी किया जा सकता है। इस पत्ते में कई औषधीय गुण है। हमारे देश में तेज़पत्ते का प्रयोग खाने में मसाले के रूप के साथ ही आयुर्वेदिक औषधी के लिए भी किया जाता है।

किडनी स्टोन की बात की जाएं तो यह महिलाओं की अपेक्षा पुरुषो में तीन गुना ज्यादा होती है और ज़्यादातर किडनी स्टोन 20 से लेकर 30 साल के  युवाओं में देखने को मिल रही है। आपको जानकर हैरानी होगी कि पथरी सेसे निजात पाने के लिए आपकी रसोई में पाया जाने वाला तेजपत्ता काफी मददगार हो सकता है। अगर आपको पथरी  है तो आप तेजपत्ते को उबालकर उसके पानी को ठंडा करके पीया करें। ऐसा करने से ये किडनी स्टोन और किडनी से जुड़ी दूसरी समस्याओं से निजात दिलाने में मदद करता है।

इसके अलावा तेजपत्ते का इस्तेमाल टाइप 2 डायबिटीज में भी किया जाता है।  ये ब्लड शुगर के लेवल को कंट्रोल करने में मदद करता है। तेजपत्ता दिल की क्रियाशीलता पर भी सकरात्मक प्रभाव डालता है। अगर आपको पेट से जुड़ी किसी भी तरह की परेशानी है तो आप चाय बनाते वक्त तेजपत्ते का इस्तेमाल करें। इस चाय का सेवन करने से आप कब्ज, असिडिटी और मरोड़ जैसी समस्याओं से राहत मिलती है। इतना ही नहीं मिर्गी में तेजपत्ते के धुएं से मिर्गी की समस्या दूर हो जाएगी।

Please follow and like us:
Pin Share