सेलिब्रिटी

सलमान खान की बदौलत एक्ट्रेस बनीं, नहीं तो फैशन डिजायनर होती सोनाक्षी सिन्हा

सिनेमा हाल में 20 दिसम्बर को दबंग 3 सिनेमा हॉल में रिलीज होने वाली है। इस दौरान फिल्म के सभी कलाकार इसके प्रोमोशन में लगे हुए। फिल्म में दबंग में डेब्यू करने वाली सोनाक्षी सिन्हा एक बार फिर से रज्जो के किरदार में नजर आएंगी। इस फिल्म को लेकर सोनाक्षी सिन्हा में जबरदस्त उत्साह दिख रहा है। इस फिल्म के साथ ही सोनाक्षी इंडस्ट्री में अपने दस साल पूरे करने जा रही है।  फिल्म के प्रोमोशन के दौरान सोनाक्षी सिन्हा ने अपने करियर और समाज से जुड़े मुद्दें पर खुलकर बात की।


सोनाक्षी सिन्हा का कहना है कि ‘पहले तो मुझे खुद यकीन नहीं हो रहा है कि हम वापस ‘दबंग 3’ तक आ पहुंचे हैं। यह मेरी शायद 25वीं फिल्म होगी और अब 10 साल पूरे होने को हैं। अभी भी लगता है कि पहली फिल्म कल ही तो रिलीज हुई थी। इन 10 सालों में मैंने जिस रफ्तार के साथ काम किया है, वक्त कब बीतता गया, अहसास ही नहीं हुआ। मैं खुद को लकी मानती हूं कि मुझे पहली फिल्म के साथ इतना एक्सेप्टेंस और प्यार-सम्मान मिला है। मैंने उसे संभालकर रखा है और कोशिश यही है कि जिंदगीभर इस प्यार को संजोकर रखूं।  मेरे लिए रज्जो के किरदार की बात की जाए, तो मुझे लगता है कि मैं नींद में भी इसका किरदार निभा सकती हूं। मैं उस जोन में आसानी से घुस जाती हूं, बहुत कंफर्ट आ जाता है।’

रही बात सलमान की तो मैं सलमान को फिल्मों में आने से पहले से जानती हूं। मेरे पापा और सलीम अंकल बहुत अच्छे दोस्त रहे हैं। उन्होंने अपने दिनों में बहुत सारा काम किया है। मैं सलमान को एक ऐक्टर के तौर पर नहीं जानती हूं, वह मेरे फैमिली फ्रेंड हैं। आज मैं जो कुछ भी हूं और जहां भी हूं, उसका पूरा श्रेय सलमान और उनके परिवार को जाता है। अगर सलमान नहीं होते, तो शायद मैं ऐक्ट्रेस भी नहीं बनती। दरअसल मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि मुझे ऐक्टिंग करनी है। मैं तो फैशन डिजाइनिंग का कोर्स कर रही थी। उन्होंने आकर मुझसे कहा कि क्या कर रही हो? मेरे पास एक फिल्म है, उसमें ऐक्टिंग करोगी? उन्होंने प्रेरित नहीं किया होता, तो मैं आज यहां तक नहीं पहुंच पाती।

हैदराबाद में हुए रेप केस के मामले में सोनाक्षी सिन्हा का कहना है कि मेरे पास कोई शब्द ही नहीं है, खून खौलउठता है ऐसी घटनाओं से, जो भी हुआ वह बहुत दुख की बात है। मैं मानती हूं कि अब कोई भारत की बेटी बनना नहीं चाहता है क्योंकि हमारी कोई भी बेटी सुरक्षित नहीं है। हर दिन इस तरह की घटनाएं घट रही हैं। आप ऐक्शन तो ले रहे हो, लेकिन यह रिपीट क्यों हो रही हैं? 7 साल हो गए हैं निर्भया केस को, अभी हम उससे उबरे ही नहीं थे कि यह घटना घट गई। कोई कुछ नहीं कर रहा है। मुझे ऐसे लोगों की मानसिकता समझ नहीं आती है।

Please follow and like us: