धार्मिक

बेडरूम में ऐसे सोने से पति होगा खुश, सास से खूब जमेगी

भारत में तो वास्तुशास्त्र का बहुत महत्त्व है| पर वास्तुशास्त्र का प्रयोग केवल घर की चीजों को सही दिशा में रखना मात्र नहीं होता हैं| बल्कि और भी कई चीजें वास्तुशास्त्र से जुडी हुई है, जैसे की आप घर में किस दिशा में सोते हैं| क्योंकि गलत दिशा में सोना भी आपके घर पे और आपसी सम्बन्ध में बुरा प्रभाव डाल सकता है| साथ ही घर में लड़ाई-झगडे भी बढ़ने लगते है| तो आज हम आपको बताते है की किस दिशा में सोने से आपकी ज़िंदगी की परेशानियाँ होंगी दूर| 

वास्तुशास्त्र के अनुसार शादीशुदा महिलाओ को उत्तर और पश्चिम दिशा के मध्य के कोण में सोना चाहिए, इससे उनको परिवार से अलग होने के सपने नहीं आएँगे| वही कुवांरी लड़कियों को इस दिशा में सोने से लाभ होता है| और उनकी शादी जल्दी हो जाती है|

घर की बड़ी एवं वृद्ध महिलाओं को दक्षिण दिशा में सोना चाहिए| क्योंकि दक्षिण दिशा सबसे प्रभावशाली दिशा होती हैं| इससे घर में सबकी सेहत अच्छी रहती है और सबके बीच प्रेम और आपसी तालमेल बना रहता हैं|

यदि आपके घर में दो गद्दे वाला बेड है, तो आप उसे तुरंत बदल दीजिये क्योंकि यदि विवाहित जोड़ा रोज़ाना अलग अलग गद्दे पर सोता हैं तो उनके रिश्ते में भी दरार आ सकती हैं|

यदि पत्नी अपने पति के बायीं तरफ सोती है, तो यह उसके रिश्ते में और भी मज़बूती लता है| दरअसल बीवी को हस्बैंड का बायां अंग माना जाता हैं| इसीलिए यह उपाय आपके जीवन में नए रंग भर देगा|  इस से आपके दाम्पत्य जीवन में ख़ुशियाँ बनी रहती हैं| 

घर की छोटी महिलाओं या नवविवाहित बहुओं को आग्नेय कोण में नहीं सोना चाहिए| इसकी यह  वजह हैं कि इस कोण में सोने वाली महिला का मन मुटाव दक्षिण दिशा में सोने वाली महिलाओं से होता हैं|

Please follow and like us:
Pin Share