धार्मिक

शनिवार को शनिदेव की पूजा के साथ करें यह उपाय होगा कष्टों का अंत

कहते है अगर किसी के साथ शनिदेव हावी हो जाएं तो उसका सारा काम बिगड़ने लगता है। लोग शनिदेव से मुक्ति पाने के लिए उनकी पूजा अर्चना करते है क्योंकि शास्त्रों के अनुसार यह बहुत जल्दी गुस्सा हो जाते है। इसलिए सभी इनके गुस्से से बचना चाहते है। तो चलिए आपको ऐसे उपास के बारे में  बताते है कि अगर आपकी राशी में शनि की साढ़ेसाती चल रही हैं तो कैसे आप शनि देवता को प्रसन्न कर सकते है।

शनिवार का दिन शनि देवता को अनुकूल माना गया है। ऐसे में शनिदेव की साढ़ेसाती से बचने के लिए और उसके बुरे प्रभाव से बचने के लिए आप शास्त्रों के अनुसार उपाय कर अपनी जिंदगी में कष्टों से मुक्ति पा सकते है।  जिन पर शनिदेव मेहरबान हो जाएं तो उन्हें हर क्षेत्र में सफलता मिलती है। आज हम आपके लिए कुछ ऐसे ही उपाय लेकर आए है जिनको आप शनिवार के दिन कर आपने जीवन के सभी कष्टों का अंत कर सकते है।  शनिवार के दिन काले कुत्ते या काली गाय को रोटी और किसी काली चिडिया को दाना डाले इससे आपके जीवन की तमाम रुकावटें खत्म होगी। इसके अलावा अगर आप शनिवार को तेल से बना कोई खाना भिखारी या गरीब को खिलाते है तो इससे शनि देव प्रसन्न होते हैं और आपके जीवन के सभी कष्टो को खत्म कर देते है।

शनिवार के दिन आप लाल रेशमी धागे को आपने घर के मंदिर में चढ़ाए। फिर उस धागे को अपनी लम्बाई के बराबर का काट लें और उसे धुलकर उसे आम के पत्ते में लपेटे और फिर उसके बाद ‘ॐ नमः शिवाय’ का जाप करते हुए उस धागे से लिपटे पत्ते को किसी साफ़ नदी के बहते पानी में प्रवाहित कर दें। इसके साथ ही अगर आपके जीवन में कष्टों का ज्यादा बोझ हो तो आप शनिवार के दिन थोड़ी से उड़द की दाल लेकर सिर से 3 बार उलटा घुमाकर कौओं को खिला दे इससे आपके जीवन के सभी कष्टों का निवारण होगा।

आप हर मंगलवार और शनिवार के दिन को हनुमान चालीसा का पाठ कर भी शनिदेवता को प्रसन्न कर सकते है। माना जाता है की हनुमानजी के दर्शन करने और उनकी भक्ति करने से शनि के सभी दोष समाप्त हो जाते हैं। शास्त्रों के अनुसार शनि किसी भी परिस्थिति में हनुमानजी के भक्तों को परेशान नहीं करते और हमेशा उनके कष्टो का तुरंत अंत करते है।

Please follow and like us:
Pin Share