हिंदी समाचार

ऐसी खतरनाक बीमारियाँ होने पर रेलवे देता है 100 % तक की छूट

अपने कभी ना कभी रेलवे का सफर तो जरूर किया होगा अगर हाँ तो आप यह जरूर जानते  होंगे कि यह सफर कभी आरामदायक होने के साथ-साथ काफी सस्ता भी होता है, भारतीय रेलवे अपने ग्राहकों को काफी सहूलियत देता है जिसे उनकी यात्रा काफी आरामदायक हो।
इसके अलावा भारतीय रेलवे मरीज़ो को विशेष छूट भी देता है और उनका किराया भी काफी कम लिया जाता है और यह छूट 50 से लेकर 100% तक भी होती है  आज हम आपको बताएँगे कि रेलवे कौन सी बीमारी पर कितनी प्रतिशत कि छूट देता है, दरअसल रेलवे इन 11 खतरनाक बीमारियों के होने पर छूट देती है, इस छूट के बारे मे काफी कम लोग ही जानते होंगे आइये अब आपको हम बताते है कि कौन सी बीमारियाँ होने पर कितनी छूट देती है। 

दिल के रोग 

अगर आपको दिल के रोग है और आपने जल्दी ही सर्जरी करवाई है तो रेल्वे आपको फ़र्स्ट क्लास, सेकंड क्लास, 3AC, AC chair car और स्लीपर कोच के किराए पर 75% तक की छूट देगी, और  1AC और 2AC में सफर करने पर इनसे 50% ही किराया लिया जाता है। 

कैंसर 

रेलवे कैंसर से ग्रस्त रोगियों को यात्रा मे विशेष छूट देती है साथ ही साथ उनके साथ यात्रा कर रहे यात्री को भी किराए मे भरी छूट देती है, रोगी और उसके साथ सफर कर रहे सहयोगी को AC चेयर कार, फ़र्स्ट क्लास, सेकंड क्लास के किराए में 75% तक की छूट मिलती है, स्लीपर और 3AC में सफर करने पर 100%, जबकि 1 AC और 2 AC में सफर करने पर 50% किराया कम लिया जाता है।

एनीमिया 

अगर आप एनमिया बीमारी से ग्रस्त है तो रेलवे आपको AC-2-tier, 3AC, AC chair car और स्लीपर कोच के किराए पर 50% की छूट देती है।
थैलेसीमिया
थैलेसीमिया के रोग से ग्रस्त लोगों को 2nd Class, 1st class, 3AC, AC chair car और स्लीपर कोच में  किराए पर 75%, 1AC और 2AC के किराए में 50% की छूट दी जाती है।

किडनी 

रेलवे किडनी कि बीमारी से जुड़े मरीज़ो को यात्रा में 2nd Class, 1st class, 3AC, AC chair car और स्लीपर कोच में सफर करने के दौरान किराया की केवल 25 प्रतिशत राशि ही देनी पड़ती है। जबकि  1AC और 2AC के किराये में 50% की छूट इन रोगियों को मिलती है।

एड्स, ऑस्टोमी और हीमोफीलिया
अगर आपको एड्स और ऑस्टोमी जैसी खतरनाक बीमारियाँ है तो आपको 2nd class में सफर करने पर 50% तक की छूट मिलती है। जबकि हीमोफीलिया के रोगियों को 2nd class, 1st class, 3AC, AC chair car, और स्लीपर क्लास के किराये में 75% की छूट दी जाती है।

टीबी

भारतीय रेलवे टीबी, ट्यूपस वलगारिस और कुष्ठ रोगियों को अपनी यात्रा के दौरान यात्रा करने पर इन लोगों से 2nd class, 1st class और स्लीपर क्लास में सफर करने के लिए किराए की 25 % राशि ही वसूली जाती है।
रोगियों को किराए में छूट देने से जुड़े नियम –

हालाँकि यह छूट प्राप्त करने के लिए आपको कुछ दस्तावेज़  प्रस्तुत करने पड़ सकते है जो रेलवे द्वारा निर्धारित की गयी है जो हम आपको बताने जा रहे है, यह छूट उनही  मरीज़ो को दी जाती है जो किसी नामी अस्पताल या सरकारी अस्पताल में इलाज करवाने जा रहे हों, और आपको किराए मे छूट के लिए  टिकट लेते समय कुछ दस्तावेज दिखाने होते हैं और इनके आधार पर ही ये तय किया जाता है कि सफर कर रहे रोगी से कम पैसे लिए जाए की नहीं।

Please follow and like us:
Pin Share