अजब गजब

यहां आजादी से रहती हैं मुस्लिम महिलाएं, पर्दे में रहने को मजबूर पुरुष, जानिए क्यों

मुस्लिम महिलाओं के लिए पर्दे के रिवाज सदियों से चला आ रहा है। वही पुरुषों के तलाक देने का दर्द भी महिलाएं बरसों से झेल रही है। लेकिन हमको ऐसी बात बताने जा रहे जहां सबकुछ उल्टा है। यानी यहाँ पुरुष पर्दा करते है और महिलाएं बिना पर्दे के रहती है। इतना ही नहीं यहां महिलाओं के पास तलाक देने का अधिकार है और तलाक के बाद धूमधाम से जश्न मनाया जाता है। आज हम आपको  ऐसी ही जनजाति के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनके रिवाज दूसरों की तुलना में बहुत ही अलग है। पश्चिमी अफ्रीका के नाइजर में रहने वाली तुआरेग ट्राइब्स में महिलाओं को शादी से लेकर तलाक तक कोई भी काम अपनी मर्जी से कोई भी काम करने की आजादी है।

इस जनजाति में बड़ी अजीब मान्यतायें है जैसे कि यहां महिलाओं को शादी से पहले कई मर्दों से संबंध बनाने की इजाजत है, लेकिन पुरुषों को पर्दे में रहना पड़ता है। जी हां तुआरेग ट्राइब्स की महिलाओं को दुनियाभर के मर्दों के बराबर अधिकार मिले हुए हैं। परंपरा के मुताबिक महिलाएं अपनी मर्जी से शादी कर सकती हैं। इतना ही नहीं, शादी के बाद भी वह किसी गैर मर्द के साथ संबंध बना सकती हैं। वहीं, पुरुषों को अपना चेहरा समाज से छिपाकर रखना होता है। तुआगो जनजाति में महिलाएं कभी भी चाहें तो पति को हमेशा के लिए छोड़ सकती हैं।

यहां शादियां और तलाक काफी आम बात है। यहां तलाक मिलने पर महिला के घरवाले धूम धाम से जश्न मनाते हैं। इतना ही नहीं तलाक होने पर महिलाओं को जो चाहिए वह मांग सकती हैं। इसके अलावा महिलाएं किसी तरह का कोई पर्दा नहीं करेंगी क्योंकि उनके चेहरों को मर्दों को दिखाया जाना चाहिए। यहां कोई भी फैसला महिलाओं की मर्ज़ी के बिना नहीं होता है। यहां  बड़े-बड़े फैसले लेने के लिए मर्दों को स्त्रियों की इजाजत लेनी पड़ती है।

Please follow and like us:
Pin Share