हिंदी समाचार

मोदी सरकार बढ़ाएगी भारत की वायुसेन ताकत, 200 लड़ाकू विमान होंगे शामिल

भारत को सुरक्षा प्रदान करने में हमारी मौजूदा सरकार कोई कसर नही छोड़ रही है। आज हमारा देश उन चंद देशो में शामिल हो गया जिनकी सैन्य ताकत के आगे सभी देश पानी भरते नज़र आते है। यही वजह है कि ईरान और चाइना जैसे देश भारत से लोहा लेने में टकराते है और अब भारत ने देश की सुरक्षा की और एक और महत्वपूर्व कदम बढ़ाते हुए 200 लड़ाकू विमान और खरीदने का फैसला लिया है।भारत के इस फैसले से देश की ताकत 200 गुना और बढ़ जाएगी।

कोलकाता में रक्षा सचिव अजय कुमार का कहना है कि हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) द्वारा तैयार किए जा रहे 83 तेजस लड़ाकू विमानों का कॉन्ट्रैक्ट आखिरी चरण में है। वायुसेना को मजबूती देने के लिए सरकार 200 लड़ाकू विमान खरीदेगी। एचएएल के अलावा भी 110 लड़ाकू विमानों के लिए प्रस्ताव मांगे गए हैं। इस तरह से कुल 200 लड़ाकू विमानों की खरीद के लिए प्रक्रिया तेज़ हो गई है। रक्षा सचिव ने कहा कि एचएएल से 83 तेजस लड़ाकू विमानों के करार को जल्द ही फाइनल कर दिया जाएगा।

वर्तमान समय में वायुसेना के पास सुखोई-30MKI, मिराज-2000, मिग-29, जगुआर, मिग-21 बाइसन और मिग-27 जैसे लड़ाकू विमान हैं। वहीं दो इंजन वाला सुखोई-30MKI को रूस ने बनाया है, जबकि एक सीट वाले मिराज-2000 को फ्रांस ने बनाया है। इसके अलावा मिग-29, मिग-27, मिग-21 बाइसन को भी रूस ने बनाया है, जबकि जगुआर को भारत और फ्रांस ने मिलकर बनाया है। एयरोनॉटिक्स लिमिटेड द्वारा तैयार किए जा रहे 83 तेजस लड़ाकू विमानों का करार लगभग पूरा हो चुका है।

Please follow and like us:
Pin Share