धार्मिक

माता के इस मंदिर में एसी बंद होते ही माँ काली को आता है पसीना,अभी पढ़े ..

दुनिया में ऐसे कई रहस्य और चमत्कार हैं

जिसे देख या सुनकर कोई अचंभित हो जाता हैं। ऐसा ही एक चमत्कार इस मंदिर में दिखाई देता है। मध्यप्रदेश के जबलपुर शहर में एक काली माता का मंदिर (Maa kali ji) सैकड़ों साल पुराना है। यहाँ कुछ ऐसा होता हैं, जिसे सुनकर कोई भी यकिन नहीं करेगा। इस मंदिर में जैसे ही AC बंद होता है, माता जी को पसीना आने लगता हैं।

माँ काली को थोड़ी सी भी गर्मी सहन नहीं होती

जबलपुर में बने इस मंदिर को करीब 600 साल हुए होंगे। इस मंदिर में माता काली की भव्य प्रतिमा की स्थापना गोंडवाना साम्राज्य के दौरान की गई थी। कहा जाता हैं कि, तभी से माता की प्रतिमा को जरा सी भी गर्मी सहन नहीं होती। गर्मी लगते ही मूर्ति में से पसीना आने लगता हैं। फिर मंदिर में पंखे, कूलर लगवायें गए ताकि माँ को पसीना न आयें। लेकिन कुछ फायदा नहीं हुआ। फिर समय के साथ ही इस मंदिर में AC लगवाए गए तब जाकर माँ को पसीना आना बंद हुआ। इसलिए इस मंदिर में सदैव AC चालू रखा जाता है। कभी-कभी किसी कारण वश या बिजली न होने पर AC बंद हो जाता हैं। तो माता जी की प्रतिमा से पसीना निकलने लगता हैं। ये किसी चमत्कार से कम नहीं हैं।

सर्दी के मौसम में भी एसी बंद नहीं होता

स्थानीय लोगों का कहना है कि, मौसम चाहे कोई भी हो मंदिर में एसी बंद कभी नहीं होता। ठंड के मौसम में भी AC चालू रहता हैं। सर्दियों में भी यदि AC बंद हो जायें, तो माता को पसीना आने लगता है। मां काली के इस चमत्‍कार को देखने के लिए हजारों भक्‍तों की भीड़ लगी रहती है। इस मंदिर में स्‍थापित मां काली की प्रतिमा अद्भुत और चमत्‍कारी है। मंदिर के पुजारियों का कहना है कि, मंदिर परिसर में रात के समय किसी भी व्‍यक्‍ति को सोने या रूकने की परमिशन नहीं है।

माता काली नहीं हटी अपने स्थान से

मंदिर ट्रस्‍ट का कहना है कि, रानी दुर्गावती के शासनकाल में माता काली और मां शारदा की प्रतिमा को मदन महल पहाड़ी पर बने मंदिर में स्‍थापित करने के लिए ले जाया जा रहा था। तब रस्ते में रात होने के कारण काफिला वहीं रुक गया और दोनों मूर्तियों को भी मार्ग में ही रख दिया। फिर दूसरें दिन सुबह जब मूर्तियों को उठाया गया, तब मां शारदा की प्रतिमा तो उठ गई। लेकिन माँ काली जी की मूर्ति वहाँ से थोड़ी भी नहीं हिली। काफिलें ने कई बार मूर्ति को उठाने की कोशिश की, लेकिन मूर्ति को उठाना तो दूर हिला तक नहीं पाए, तब से माता काली को इसी स्थान पर स्थापित कर दिया गया।

पसीने निकलने पर कई शोध हुए

हिंदू धर्म के देवी-देवताओं के चमत्‍कार वैसे तो पूरी दुनिया में मशहूर है। विज्ञानिकों ने माता काली जी की प्रतिमा से पसीने निकलने के कारणों पर कई बार खोज भी की। लेकिन विज्ञान को इस बात का कोई जवाब नहीं मिला। इस प्रकार पसीना निकलने के पीछे क्या रहस्य हैं, आज तक किसी के समझ नही आया। विज्ञान के लिए भी ये घटना किसी चमत्‍कार से कम नहीं है। ये मंदिर पूरे प्रदेश में प्रसिद्ध हैं।

Please follow and like us:
Pin Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *