हिंदी समाचार

सरकार जल्द ही लड़कियों की शादी की तय उम्र पर फैसला लेने जा रही है, अब इतनी उम्र में कर पाएंगे बेटी की शादी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को जारी किए एक बयान में कहा है कि जल्द ही गठित समिति की रिपोर्ट मिलने के बाद सरकार लड़कियों की शादी की न्यूनतम उम्र को संशोधित करने पर फैसला लेगी.

प्रधानमंत्री ने कहा कि शिक्षा में लड़कियों का सकल नामांकन अनुपात देश में पहली बार लड़कों की तुलना में अधिक हो गया है. इसका कारण पिछले छह वर्षों में सरकार द्वारा कई प्रयास किए जाना है. बता दें कि यह बयान मोदी जी ने खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) की 75 वीं वर्षगांठ पर 75 रुपये मूल्य के स्मारक सिक्के को जारी करने के बाद एक वीडियो सम्मेलन को संबोधित करने के दौरान दिया है.

इस दौरान मोदी ने कहा, “बेटियों की शादी के लिए आदर्श उम्र क्या होनी चाहिए, यह तय करने के लिए एक महत्वपूर्ण विचार-विमर्श चल रहा है.” प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें देश भर की महिलाओं से पत्र प्राप्त हुए हैं, जो समिति की रिपोर्ट के बारे में पूछ रही हैं कि सरकार इस बारे में निर्णय आखिर कब करेगी.

मोदी ने कहा, “मैं उन्हें आश्वस्त करना चाहता हूं कि सरकार जल्द ही रिपोर्ट पेश करने के बाद अपना फैसला लेगी.” जानकारी के लिए बता दें कि इसी साल स्वतंत्रता दिवस के भाषण में, प्रधान मंत्री ने घोषणा की थी कि सरकार इस बात पर विचार कर रही है कि महिलाओं के लिए विवाह की न्यूनतम आयु क्या होनी चाहिए और इस मामले को देखने के लिए एक समिति का गठन किया है.

बता दें कि वर्तमान में, महिलाओं की शादी के लिए न्यूनतम आयु 18 वर्ष और पुरुषों के लिए 21 वर्ष है. ऐसे में अब देखना यह होगा कि सरकार नए फैसले में इस उम्मोर सीमा को किस हद तक बदलती है. अपने इस सम्मेलन के दौरान पीएम मोदी ने कुपोषण से लड़ने के लिए पिछले छह वर्षों में अपनी सरकार द्वारा किए गए प्रयासों पर प्रकाश डाला. प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने कुपोषण की चुनौती से निपटने के लिए एक एकीकृत और समग्र दृष्टिकोण अपनाया है.

 

Please follow and like us:
Pin Share