अजब गजब

700 साल पुराना पेड़ हो गया बीमार, चल रहा इंसानो जैसा इलाज डॉक्टरों ने लगायी ग्लूकोस की बोतल

जंगलो को बचाने की एक अनोखी कवायद, पेड़ का हो रहा है इंसानो सा इलाज

जहां एक तरफ लोग जंगलो को नष्ट कर अपना घर और इंडस्ट्री बनाते जा रहे है वहीं अभी भी कही हमारी पर्यावरण को बचाने के लिए लोग जी जान से लगे पड़े है। यही वजह है कि तेलंगाना के महबूबनगर जिले में एक पुराने बरगद के पेड़ का इलाज इंसानो की तरह किया जा रहा है। आपको भले ही यह बात आर्श्चयजनक लगे लेकिन यह सच है।

दरअसल इस पुराने बरगद के पेड़ को दुनिया का दूसरा सबसे पुराना पेड़ माना जा रहा है। जानकारी के मुताबिक इसकी उम्र 700 साल है और अब इस बुर्जुग बरगद के पेड़ की हालत ख़राब है। इसका शरीर अन्दर से खोखला हो चुका है। इसको लोग हरा भरा करने के लिए इसका इलाज किया जा रहा है।  इसे जीवित रखने के लिए पेड़ को ग्लोकोज यानी सलाइन की बॉटल चढ़ाई जा रही है। इस पेड़ को दिमकों ने खोखला कर दिया है इसलिए इस पेड़ को इनसे बचाने के लिए वनस्पति विज्ञान के जानकार लोग इस पेड़ को केमिकल की चढ़ा रहे हैं।


इस पेड़ में कीटनाशक की सैकड़ों बोतलें इसी उम्मीद में लटकायी गयी हैं कि शायद पेड़ फिर से ठीक हो जाए। इंजेक्शन की मदद से कीटनाशकों को पेड़ की शाखाओं और तनों में पहुँचाया जा रहा है। 700 साल पुराना यह पेड़ महबूबनगर के पिल्लामर्री इलाक़े में है। इस पेड़ की शखाएं तीन एकड़ ज़मीन में फैली हुई है। इस पेड़ को दुनिया का सबसे विशालकाय पेड़ भी माना जा रहा है। यही वजह है कि इस पेड़ को देखने के लिए दूर-दूर से आते हैं। पेड़ की हालत को देखते हुए यहाँ लोगों के आने-जाने पर रोक लगा दिया गया है। अब तो यह देखने वाली बात ही है कि इतने इलाज के बाद पेड़ को बचाया जा सकेगा या नहीं।

देखें वीडियो-

Please follow and like us:
Pin Share