वायरल

फेकि हुई सिगरेट की बट से कमाता है लाखों, आप भी सीखिए

सिगरेट कैंसर का कारण बनती है यह तो सभी जानते है लेकिन सिगरेट किसी लाखों रुपये कामवाकर करोड़पति बना सकती है। यह आपको नहीं पता होगा। जी हां हम बात कर रहे ऐसे ही सच्ची कहानी की और लड़की की जिसके अनूठे आईडिया ने उसे सिगरेट की बात के इस्तेमाल से उसे करोड़पति बना दिया।

आजकल जहाँ युवा सिगरेट की लत में खुद को गिरफ्तार कर लेते है और समय से पहले अपनी ज़िंदगी को मौत के गड्ढे मैं धकेल देते है तो वही दूसरी और एक युवा ने इस सिगरेट की फेंकी हुई बट को अपनेव्यापार का जरिया बनाया डाला। इनकी इस अनूठी शुरुवात ने न केवल इनको लाखो के कमाई कराई बल्कि पर्यावरण को भी स्वच्छ और साफ रखने का काम किया। हम बात कर रहे है, युवा उद्यमी कोड इंटरप्राइजेज एल एल पी कंपनी का मालिक विशाल कनेट की।

आज से कुछ साल पहले विशाल के दिमाग में एक ऐसा आईडिया आया था जिसने आज उनकी जिंदगी पूरी तरह से बदल दिया। उन्होंने अपने दोस्तों के साथ मिलकर एक कंपनी की शुरुआत की। यह कंपनी सिगरेट बट को इकठ्ठा कर उनका इस्तेमाल तरह तरह की चीजों का निर्माण करने में करते है।
आज विशाल की कंपनी ने सिगरेट बट को इकट्ठा करने के लिए जगह-जगह  सिगरेट की दुकानों पर वी बॉक्स नाम के डब्बे लगा दिए है।  वी बॉक्स का मतलब है वैल्यू बीन्स बॉक्स। दुकानों पर लगाये गए उन बॉक्सेज में जब बहुत सारे सिगरेट के बट इकट्ठा हो जाते हैं तो उसके बाद कंपनी उन बट को दुकानदारों के पास से ले कर चली जाती है और दुकानदारों को कुछ पैसे  दे देती है। बट को इकट्ठा करने के बाद विशाल की कंपनी के इन सिगरेट बट को प्रोसेस किया जाता है और बट को प्रोसेस करने के बाद उन्हें तीन चीजों में बदल दिया जाता है। इसका पहला हिस्सा  है राख, दूसरा तंबाकू और तीसरा सिगरेट फ़िल्टर। सिगरेट से निकले राख को विशाल की कंपनी एश ब्रिक्स बनाने में इस्तेमाल किया करती है। वही पेपर और तंबाकू को प्रोसेस करने के बाद इससे खाद का निर्माण किया जाता है।
इस तकनीक  से पेपर और तंबाकू से 25 दिनों में खाद बन जाती है। इस खाद का इस्तेमाल ग्रीन एरिया में किया जाता है। इन दोनों चीजों का इस्तेमाल हो जाने के बाद जब बात सिगरेट फिल्टर की आती है तो सिगरेट फिल्टर को केमिकल के साथ ट्रीट करने के बाद इसे रुई cलाकर तरह तरह की चीजें बनाई जाती है। जैसे सोफे के कुशन और रुई के सजावटी छोटे छोटे समान। इस आईडिया से एक तरफ विशाल की अछि कमाई हो रही है तो वही दूसरी तरफ  इससे आसपास की गंदगी भी खत्म हो रही है।
Please follow and like us:
Pin Share