हिंदी समाचार

रेप नगरी उन्नाओ: पिछले 11 महीनों में लड़कियों के बलात्कार के 51 मामले हुए दर्ज

उत्तरप्रदेश के उन्नाव जिले में लगातार बढ़ रही बलात्कार की घटनाओं मौजूदा सरकार की लड़कियों के सुरक्षा को लेकर हो रही बड़ी बड़ी बातों की पोल खोलकर रख दी है। इसके साथ ही पुलिस प्रशासन की हिलाहवाली और लड़कियों की सुरक्षा में हो रही लापरवाही का भी पर्दा फाश कर दिया है। दो दिन पूर्व हुई उन्नाव रेप पीड़िता ने दिल्ली में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया जिसके बाद से सरकार और पुलिस की काफी फजीहत हो रही है। लेकिन यह वह मामला है जो हमारे सामने आया जबकी उन्नाव में अभी भी कई मामले ऐसे है जो पुलिस की फाइलों में बंद है।उन्नाव में  पिछले 11 महीनों में लड़कियों के बलात्कार के 51 मामले हुए दर्ज

उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में रेप मामलो ने काफी तेजी पकड़ ली है। यूपी पुलिस के आंकड़ों पर नजर डाले तो जिले में पिछले 11 महीनों में 51 मामले दर्ज किए गए हैं। पुलिस ने कहा कि उन्नाव में इस साल जनवरी से नवंबर के बीच छेड़छाड़ और बलात्कार के प्रयास के 185 मामले दर्ज किए गए हैं।  जिले में तैनात पुलिस अधिकारी रेणू यादव ने कहा कि पिछले दो सालों के दौरान जिले में 24 नाबालिगों के साथ भी बलात्कार किया गया है। वही उन्नाव के पुलिस अधीक्षक विक्रांत वीर ने कहा कि आरोपों के संगीन पाए जाने के बाद इस साल बलात्कार के 52 मामले दर्ज किए गए थे।

उन्नाव की लखनऊ से दूरी सिर्फ 60 किमी है और यह जिला बीजेपी के निष्काषित विधायक कुलदीप सेंगर पर लगे आरोप और फिर पार्टी से उनके निकाले जाने के बाद चर्चा में आया। यह मामला 2017 में चर्चा में आया था। जिसमें पीड़िता ने आरोप लगाया है कि रोजगार दिलाने के बहाने उसके साथ बलात्कार किया गया। उन्नाव इस साल एक बार फिर से चर्चा में आया जब रेप पीड़िता की कार को ट्रक ने टक्कर मार दिया जिसमें दो चाची की मौत हो गई थी जबकि वकील गंभीर रूप से घायल हो गया था। वहीं एक स्थानीय कार्यकर्ता सचिन दीक्षित ने कहा कि हो सकता है कि डेटा भ्रामक हो सकता है कि क्योंकि कई मामलों की रिपोर्ट नहीं की जाती है। वहीं एक बार फिर उन्नाव पर रेप पीड़िता को जलाकर हत्या के मामले में इन दिनों चर्चा में चल रहा है।

Please follow and like us:
Pin Share