हिंदी समाचार

भारतीय मज़बूत सुरक्षा का गवाह बना 71वां गणतंत्र दिवस, जानिये कैसे रहा 26 जनवरी का दिन

शहीदों को नमन कर पीएम मोदी ने की 71गणतंत्र दिवस की शुरुवात। इस मौके पर ब्राजील के राष्ट्रपति जायेर बोलसोनारो मुख्य अतिथि तौर पर मौजूद रहे। भारत की राजधानी दिल्ली के राजपथ पर देश की सैन्य शक्ति और सांस्कृतिक विरासत की बेजोड़ झलक देखने को मिली। वहीं शहीदों के नमन के बाद सामाजिक आर्थिक परेड हुई। इसमें भारत को सुरक्षा प्रदान करने वाले उपग्रह भेदी हथियार ‘शक्ति’, थलसेना का युद्धक टैंक भीष्म, इन्फैंट्री युद्धक वाहन और हाल ही में वायु सेना इस भव्य परेड के गवाह बने तो वहीं चिनूक और अपाचे युद्धक हेलिकॉप्टर भी परेड का हिस्सा रहे। इस दौरान सुरक्षा के खास इंतिज़ाम किये गए। पूरी दिल्ली को आसमानी सुरक्षा के घेरे में रखा गया।

इस गणतंत्र दिवस के मौके पर 22 झांकियों में से 16 झांकियां राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की निकली गयी। वहीं छह विभिन्न मंत्रालयों और विभागों की झांकियां परेड का हिस्सा बनी। इस परेड समारोह की शुरुआत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली बार इंडिया गेट के समीप राष्ट्रीय समर स्मारक पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। ऐसा पहली बार हुआ है कि जब प्रधानमंत्री ने अमर जवान ज्योति की बजाय राष्ट्रीय समर स्मारक पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी हो।

पीएम के साथ केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) और विश्वविद्यालयों के 105 टॉपर छात्र छात्रा इस भव्य समारोह के गवाह बने।  इनमें पीजी और यूजी और पीएचडी के 50 छात्र, 10वीं कक्षा के 30 छात्र और 12वीं कक्षा के 25 छात्र हैं। स्नातक के छात्रों में उत्तर प्रदेश के 14, असम के आठ और केरल, हरियाणा, कर्नाटक के सात-सात छात्र शामिल हुए। इस परेड में 21 तोपो की सलामी के साथ देश का झंडा आसमान में लहराया और राष्ट्रगान की धुन बजाई गई। परेड की शुरुआत राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के परेड की सलामी लेने से हुई।

परेड में पहला दस्ता सेना की 61वीं घुड़सवार टुकड़ी का था। आठ मैकेनाइज्ड दस्ते, छह पैदल दस्ते तथा रूद्र और फ्लाई पास्ट करते ध्रुव उन्नत हल्के हेलिकॉप्टर ने किया। इंडियन आर्मी के स्वदेश में निर्मित मुख्य युद्धक टैंक टी-90 भीष्म, इन्फैंट्री युद्धक वाहन ‘बॉलवे मशीन पिकाटे’, के-9 वज्र और धनुष तोपें, चलित उपग्रह टर्मिनल और आकाश मिसाइल प्रणाली मैकेनाइज्ड दस्ते का मुख्य केंद्र रही। वहीं पैदल मार्च दस्तों में भारतीय सेना की पैराशूट रेजिमेंट, ग्रेनेडियर्स रेजिमेंट, सिख लाइट इन्फैंट्री रेजिमेंट, कुमाऊं रेजिमेंट और सिग्नल कोर के दस्ते शामिल हुए।

एयरफोर्स के दस्ते में वायुसेना के 144 जवान शामिल हुए, वायुसेना की झांकी में राफेल और तेजस युद्धक विमान, हल्के लड़ाकू हेलिकॉप्टर, आकाश मिसाइल प्रणाली और अस्त्र मिसाइल के मॉडल प्रदर्शित किए गए। वहीं पिछली साल की तरह इस साल भी परेड में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल का महिला मोटरसाइकिल चालक दस्ता चुनौतीपूर्ण करतब दिखाए। परेड के अंतिम चरण में बहुप्रतीक्षित फ्लाई पास्ट हुआ, जिसमें तीन उन्नत हल्के हेलिकॉप्टर ‘त्रिशूल’ फार्मेशन में उड़ते दिखाई दिए। ऐसा नज़ारा देश के में पहली बार देखने को मिला है। वहीं परेड का समापन सुखोई-30 के हवाई करतब से किया गया।

Please follow and like us:
Pin Share