हिंदी समाचार

दंगे में हुए नुकसान की भरपाई के लिए 28 प्रदर्शनकारियों को नोटिस

टियर गैस और पैलेट बुलेट की भरपाई करेंगे दंगाई

नागरिकता संशोधनकानून घमासान को लेकर जिले में हुए नुकसान की भरपाई को लेकर यूपी की सरकार ने रामपुर के 28 प्रदर्शनकारियों को नोटिस दिया है। इसमें भीड़ को काबू करने के लिए इस्तेमाल हुई टियर गैस और पैलेट बुलेट का पैसा भी प्रदर्शनकारियों से लिया जाएगा।

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ कई जिलों की जनता सड़को पर उतर आई। इस कानून के विरोध में असम से एक ज्वाला उठी और दिल्ली, लखनऊ समेत यूपी के कई जिलों को इसकी लपटो में ले लिया। भीड़ का गुस्से का शिकार शहर की कई गाड़िया,सरकारी बसे और पुलिस चौकियां हुई। भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस ने भी भीड़ पर खूब लाठियां भांजी यहां तक टियर गैस और पैलेट बुलेट का भी सहारा प्रशासन को लेना पड़ा। कई जगह के इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई। पुलिस ने कई जिलो से प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया ऐसे में सरकार ने भी सख्ती बरते हुए प्रदर्शन में हुए नुकसान की भरपाई प्रदर्शनकारियों से हर्जाना वसूलने का एलान किया है। सबसे ज्यादा हिंसा रामपुर में हुई।

21 दिसंबर को CCA के विरोध में रामपुर में हुए प्रदर्शन में पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हुई झड़प में पथराव, आगजनी और फायरिंग में एक व्यक्ति की मौत हो गयी थी। जिसके बाद 4 मोटर साइकिलों और पुलिस की एक जीप को आग लगा दी गयी थी। ऐसे में यूपी सरकार ने हिंसा के दौरान गिरफ्तार 28 प्रदर्शनकारियों को 14.86 लाख रुपये के नुकसान भरपाई का नोटिस दिया है। जिसमें पुलिस के द्वारा इस्तेमाल किए गए टियर गैस, लाठियां और पैलेट बुलेट का खर्चा भी शामिल है।

नोटिस में पुलिस की रिपोर्ट को आधार बनाकर हिंसा के लिए जिम्मेदार माने जाने वाले लोगों से नुकसान की भरपाई को कहा गया है। प्रशासन का कहना है कि पूरी कार्यवाही सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइंस के मुताबिक हो रही है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ और राज्य के अन्य इलाकों में हुई हिंसा को गलत बताया था। उन्होंने कहा कि राज्य में सरकारी संपत्ति को जिसने नुकसान पहुंचाया है उसकी संपत्ति जब्त की जाएगी और इसी संपत्ति को बेचकर इस नुकसान की भरपाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों की पहचान की जा रही है।

Please follow and like us:
Pin Share