बॉलीवुड

एक्शन हीरों के नाम से पहचान बनाने वाले असल में बेहद शर्मीले है सनी पा जी

जीत से जीता दिल गदर से मचाया गदर तो वहीं दामिनी रही सुपरहिट

कहते है इंसान के जन्म के साथ ही उसका नाम और उसकी पहचान और किस्मत तय हो जाती है। लेकिन कुछ लोगों के साथ ऐसा नहीं होता है। कुछ लोगों को किस्मत का तारा बुलंद करने के लिए अपनी पहचान खुद अपनी लगन और मेहनत के दम पर बनानी पड़ती है। मैं बात कर रही हूं लाखों लोगों का अपनी आवाज से दिवाना बनाने वाले अजय सिंह देओल की मेरा मतलब है सनी पा जी आज भले ही उन्हें उनके असली नाम से लोग न पहचानते हो लेकिन अपने एक्शन और डायलॉग डिलिवरी के दम पर उन्होने लाखों को लोगों का दिल जीत लिया। लेकिन बहुत कम ही लोगों को पता होगा कि सनी देओल का असली नाम अजय सिंह देओल है। क्योंकि उनका परिवार उन्हें प्यार से सनी नाम से बुलाता था तो आगे चलकर फिल्मों में भी उन्हें सनी नाम से ही पहचान मिली। हालांकि 1995 में उन्हें ‘अजय’ नाम की एक फिल्म में भी काम किया था।

फिल्मों में सनी अपनी गुस्सैल और आक्रामक छवि के लिए जाने जाते हैं पर असलियत में वह बेहद शर्मीले और विनम्र व्यक्तित्व के इंसान हैं। अपने एक्शन अंदाज से लाखों दिलों को जीतने वाले सनी देओल का आज यानी 19 अक्तूबर को अपना जन्मदिन मनाते हैं। आज उनका यह 63वां जन्मदिन है। शानदार स्क्रीन अपीयरेंस और बुलंद अंदाज के लिए पहचाने जाने वाले सनी देओल और उनकी फिल्मों को लेकर कई किस्से और कहानियां आपने सुनी होंगी जो आज भी कायम हैं। तो चलिए उनके जन्मदिन के मौके पर आज हम आपको उनकी जिंदगी और व्यक्तित्व से जुड़ी बेहद खास बातों को बताते हैं।

यह मजदूर का हाथ है कातिया लोहा पिघलकर उसका आकार बदल देता है घातक फिल्म का यह डायलॉग हो या फिर जीत फिल्म में पागल प्रेमी का किरदार और डॉयलाग इन हाथों ने सिर्फ हथियार छोड़े हैं उन्हें चलाना नहीं भूले। अगर इस चौखट पर बारात आएगी तो डोली की जगह अर्थियां उठेंगी। लाशें बिछा दूंगा…. लाशें  तो वही दामिनी फिल्म का यह डॉयलॉग जब ये ढाई किलो का हाथ उठता है तो फिर कोई और उठता नहीं, उठ जाता है।

आज भले ही सिनेमा के बदलते रंग ढ़ग ने काफी कुछ बदल दिया हो लेकिन सनी की पहचान उनकी बुलंद आवाज़ और उनकी शानदार डॉयलॉग डीलिवरी और उनका अंदाज आज भी लोगो को दिवाना बना देता है। और यहीं आक्रमक अंदाज उनके फैंस को सिनेमा थियेटर तक आज भी खीच लाता है। हालांकि इस आक्रमक अंदाज वाले एक्शन हीरों की कामेडी भी लोगों को खूब हसाती और गुदगुदाती है। अपने देसी अन्दाज़ और हावभाव से अपने फैंस को इंम्प्रेस करने सनी के फैन को शायद ही मालूम हो की उन्होने अपनी एक्टिंग की पढ़ाई इंगलैंड के बर्मिंघम के ‘द ओल्ड वर्ल्ड थियेटर’ से की और 1990 में फिल्म ‘घायल’ में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का  राष्ट्रीय पुरस्कार  और 1993 में फिल्म ‘दामिनी’ सर्वश्रेष्ठ सहयोगी अभिनेता के रूप में उन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार  सम्मानित किया गया।

जिस तरह आम जनता किसी न किसी हीरों की फैन होती है उसी तरह हमारे सनी पा जी को हॉलीवुड अभिनेता सिल्वेस्टर स्टेलोन काफी पसन्द है वह उसे अपनी प्ररेणा मानते है और उनसे ही प्रेरित और टिप्स लेकर उन्होने अपनी बॉडी इतनी शानदार बनाई है जो जनता का ध्यान आक्रषित कर लेती है।

यहां तक डिंपल कपाड़िया को मोह लिया एक वक्त था जब डिंपल और सनी के बीच अफेयर को लेकर मीडिया में खूब हवा चली यही वजह है कि सनी हमेशा अपने परिवार और पर्सनल लाइफ को  मीडिया से अलग रखने की कोशिश करते है यहां तक उनकी पत्नी पूजा देओल दूसरी सेलिब्रिटीज की तरह कभी भी मीडिया के सामने नहीं आईं।  

इसमें कोई दो राय नहीं सनी की फिल्म जनता को खूब पसन्द आती है लेकिन पंजाबी किरदार में लोग उन्हें कुछ ज्यादा ही पसन्द करते है। यहीं वजह है कि उनकी यादगार फिल्म ‘गदर’ की इस कदर रही हिट हुयी  कि पंजाब में कई हफ्तो तक लोगों की दीवानगी खत्म नहीं हुयी उनकी दिवानगी को देखते हुए  सिनेमाघरों ने सुबह 6 बजे के स्लॉट फिक्स कर दिए।  

Please follow and like us:
Pin Share