खेल

अब पांच दिन की जगह चार दिन में निपट जाएंगे टेस्ट मैच, 2023 में हो सकता है ऐसा

टेस्ट मैच को चार दिन का करने पर काफी विचार हो रहा है। इस पर बीसीसीआई चीफ सौरव गांगुली ने भी अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा  मैं बिना सोचे-समझे नहीं बोलता। टेस्ट में पांच की जगह चार दिन का करने पर आईसीसी बैठक जल्द ही होने वाली है। आने वाले नए साल में यानी 2020 में दुनियाभर के बोर्ड के साथ बैठकर इस मुद्दे पर  जिसमें साल 2023 से 4 दिन के टेस्ट मैच (4 Days Test Match) कराने के प्रस्ताव पर विचार होगा

बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने सोमवार को कहा कि 2023 से विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के मैचों को चार दिवसीय टेस्ट के रूप में कराने के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के प्रस्ताव पर टिप्पणी करना जल्दबाजी होगी। उन्होंने कहा, ‘सबसे पहले हमें प्रस्ताव देखना होगा, इसे आने दीजिए और इसके बाद हम देखेंगे। अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी. बिना सोचे समझे टिप्पणी नहीं कर सकते।’ आईसीसी की क्रिकेट समिति 2023 से 2031 के सत्र में टेस्ट मैचों को पांच दिवसीय की जगह चार दिवसीय करने पर फैसला ले सकती है।

दुनिया भर में टी20 लीग का प्रसार हो रहा है और पांच दिवसीय मैच की मेजबानी में होने वाला खर्च भी शामिल है। पांच दिवासीय  की जगह चार दिवसीय टेस्ट करने पर इस खर्च  से बचा जा सकता है। इसके पीछे और कोई नयी धारणा नहीं है। इस से पहले इस साल की शुरुआत में इंग्लैंड और आयरलैंड ने चार दिवसीय टेस्ट खेला था। इससे पहले 2017 में दक्षिण अफ्रीका और जिम्बाब्वे ने भी ऐसा ही मैच खेला था।

अगर आगे यह फैसला लिया जाता है तो इसका कई बड़े बोर्ड और खिलाड़ी विरोध कर सकते हैं। वैसे अगर टेस्ट मैच चार (4 Days Test Match) दिनों के हो जाते हैं तो इससे सभी देशों को और ज्यादा मैच आयोजित करने का मौका मिलेगा।  अगर टेस्ट मैचों को 4 दिवसीय किया जाता है तो एक दिन में 90 की जगह 98 ओवर फेंके जाएंगे।  इस सोच को इसलिए भी बल मिला है क्योंकि साल 2018 से अब तक 60 फीसदी मैच चार दिन या उससे कम वक्त में खत्म हुए हैं।

Please follow and like us:
Pin Share